Tuesday 8 April 2008

पधारो सा

ग़ालिब लिखते हैं-

मुहब्बत में नहीं है फर्क जीने और मरने का

उसी को देखकर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले

No comments: